ख़्वाब सारे सर सब्ज़'s image
Love PoetryPoetry1 min read

ख़्वाब सारे सर सब्ज़

Kiran K.Kiran K. October 19, 2021
Share0 Bookmarks 40 Reads1 Likes

ख़्वाब सर-सब्ज़ हुए जाते हैं सारे मेरे

इस क़दर आब रसानी है तेरी बातों में


-किरण के.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts