इखलास-ए-क़लम's image
Share0 Bookmarks 37 Reads1 Likes

इख़लास-ए-क़लम का ज़माना नहीं रहा

बिकने का अब सहाफ़ी ने पा लिया हुनर


-किरण के. ✍

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts