फ़िराक-ए-यार's image
Share0 Bookmarks 36 Reads1 Likes

फ़िराक़-ए-यार में आलम न पूछो बेक़रारी का

कि बिस्तर की हर एक सिलवट में बू-ए-वस्ल है अब भी


-किरण के.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts