दीप's image
Share0 Bookmarks 166 Reads2 Likes
दहलीज़ पर दीप तो जला दिए मैंने
ये दिल मे क्यों अमावस छाई हुई है ?

किरण ✍

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts