बेटियाँ's image
Share0 Bookmarks 47 Reads1 Likes

लिख रही थी बेटियों के हौसलों की मैं उड़ान                           

और देखी मैंने कूड़ेदान में बिखरी गज़ल


-किरण के.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts