गर्मजोशी's image
Share0 Bookmarks 213 Reads1 Likes


कविता: गर्मजोशी

 कवि: जोत्सना जरी


 .

 रिश्तों की ठंडक से

 पक्षी घोंसला तोड़ता है

 नदी में

 कुछ भूसा तैरता है।

 .

 अगर तुम मीठी मुस्कान

 फूल खिले

 जीवन थरथराता है।

 .

 अगर मैं मिलूं

 कलबोशेख हर दिन

 साफ समय मिट जाएगा

 .

 चील की तरह जीवन के साथ

 मैं बहुत दूर चलता हूँ

 आप जानते हैं कि मेरा गर्म दिल

 ठंडा नहीं होगा।

 .

 कुछ भी जो अनावश्यक है

 सड़क के मोड़ में गिर सकता है

 मैं नए सिरे से सब कुछ संभाल लूंगा।

 .

 चलो आज ही लिखते हैं

 दिन बदलने के बारे में।




[एनबी-
 कलबोशेख गर्मी के समय में आने वाला तूफान है।
 यह स्थानीय बंगाली शब्द है।  ]


 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts