's image
Share0 Bookmarks 193 Reads1 Likes


काव्य - भगोड़ा मन
 कवि - जोत्सना जरी


 .
 वर्तमान शब्दों की भीड़ में
 भगोड़ा मन अकेला बैठता है
 चुपचाप किताब और तह के पन्नों में
 काल्पनिक प्लेरूम झूले
 किनारा धुल गया
 फिर भी भगोड़ा मन अकेला रहता है।

 .
 नींद नींद की सनकी ओस
 लिफाफे को कोहरे से भर देता है
 तलाश अभी खत्म नहीं हुई है
 आलसी दोपहर के पास
 उच्च-निम्न अलपथ के पार
 भगोड़ा दिमाग लिखता है
 कुछ भावनाएँ।

 .
 गुलाबी सर्दियों की धूप में
 सपने जागते हैं
 भगोड़े मन से रोज़ मिलता हूँ
 किताब और तह के पन्नों में।

 .
 आलसी दोपहर
 हर पल की चाबी के साथ
 ड्रॉ...
 किताब और तह के पन्नों में।

 .
 कुल और बकुली की महक में
 उस महक से
 रात चुपचाप आती ​​है
 नींद और ख्वाबों की तह में
 भगोड़े मन की तलाश में
 फिर भी अकेला बैठा हूँ
 किताब और तह के पन्नों में...




 . 

[ नायब-

 1. अलपथ धान के खेतों के बीच का छोटा रास्ता है।  यह भी सीमा रेखा है।

 2. कुल बंगाली स्वादिष्ट फल है।
     बकुल एक खूबसूरत बंगाली फूल है।  ] 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts