तब तक तू उसीका गुलाम है।'s image
Short StoryPoetry1 min read

तब तक तू उसीका गुलाम है।

Ketan ApteKetan Apte December 25, 2021
Share0 Bookmarks 135 Reads0 Likes
उसका सहवास जब तक ज़्यादा है, 
तब तक तुम्हारा हर इस्तीफा नाकाम है।
जागते वक्त भी नींद जैसी हरकत है, 
तब तक तू उसीका गुलाम है।

- केतन आपटे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts