आखिर में शमशान जाना भी अकिंचित्कर है ।'s image
Short StoryPoetry1 min read

आखिर में शमशान जाना भी अकिंचित्कर है ।

Ketan ApteKetan Apte December 28, 2021
Share0 Bookmarks 31 Reads0 Likes
एक सही समय पर दिमाख और स्वभाव शमित ना हो, 
तो फिर आखिर में शमशान जाना भी अकिंचित्कर है । 

-केतन आपटे

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts