ऐ ख़ुदा's image
Share0 Bookmarks 109 Reads0 Likes

ऐ ख़ुदा


ऐ ख़ुदा मैंने दिल से की तेरी बंदगी, माना तेरा हर हुक्म

फिर क्यों फैला है य ज़ुल्मत-सरापा ।

है मेहरूम क्यों मेरी आस्ता तेरे नावाज़ से ,

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts