ज़िंदगी से लम्हे चुरा बटुए में रखता रहा's image
1 min read

ज़िंदगी से लम्हे चुरा बटुए में रखता रहा

KavishalaKavishala June 16, 2020
Share0 Bookmarks 704 Reads0 Likes

लम्हों की क़ीमत बताते हुए अनुपम खेर ने सुनाई यह कविता


ज़िंदगी से लम्हे चुरा बटुए में रखता रहा

फ़ुर्सत से खर्चुंगा बस यही सोचता रहा

उधड़ती रही जेब, करता रहा तुरपाई

फिसलती रही खुशियां, करता रहा भरपाई


एक दिन फुरसत पाई सोचा

ख़ुद को आज रिझाऊं

बर्षों से जो जोड़े

वो लमहे खर्च कर आऊं


खोला बटुआ लमहे ना थे

जाने कहां रीत गए

मैंने तो खर्चे नहीं

जाने कैसे बीत गए


फुर्सत मिली थी सोचा

ख़ुद से ही मिल आऊं

आइने में देखा जो

पहचान ही न पाऊं


ध्यान से देखा बालों पे

चांदी सा चढ़ा था

था तो मुझ जैसा

जाने कौन खड़ा था



(अनुपम खेर के सोशल मीडिया अकाउंट से साभार)


- हमें यह शायरी सोशल मीडिया से हासिल हुई है। हमें इसके रचयिता का नाम पता नहीं है। अगर आपको इस बारे में जानकारी है तो हमें सूचित करें, हमें नाम सार्वजनिक करने में प्रसन्नता होगी।



From Amar Ujala Kavya!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts