Manna Dey | Birth Anniversary's image
8 min read

Manna Dey | Birth Anniversary

KavishalaKavishala June 16, 2020
Share0 Bookmarks 756 Reads0 Likes

Prabodh Chandra Dey (born 1 May 1919), better known by his nickname Manna Dey, is one of the greatest playback singers in Hindi and Bengali films. He has recorded more than 3500 songs over the course of his career. Along with Mohammed Rafi, Kishore Kumar and Mukesh, he dominated Indian film playback music from the 1950s to the 1970s.

Dey has been honored with the titles Padma Shri and Padma Bhushan and Dada Saheb Phalke award.

Manna Dey has recorded more than 3500 songs over the course of his career.

Today is his Birth Anniversary.

Here are 5 Best songs of Manna Dey:


1. लागा, चुनरी में दाग, छुपाऊँ कैसे

लागा, चुनरी में दाग, छुपाऊँ कैसे लागा, चुनरी में दाग चुनरी में दाग, छुपाऊँ कैसे, घर जाऊँ कैसे लागा, चुनरी में दाग ... (हो गई मैली मोरी चुनरिया कोरे बदन सी कोरी चुनरिया ) - २ आ ... जाके बाबुल से, नज़रें मिलाऊँ कैसे, घर जाऊँ कैसे लागा, चुनरी में दाग ... भूल गई सब बचन बिदा के खो गई मैं ससुराल में आके आ ... जाके बाबुल से, नज़रे मिलाऊँ कैसे, घर जाऊँ कैसे लागा, चुनरी में दाग ... (कोरी चुनरिया आत्मा मोरी मैल है माया जाल ) - २ वो दुनिया मोरे बाबुल का घर ये दुनिया ससुराल हाँ जाके, बाबुल से, नज़रे मिलाऊँ कैसे, घर जाऊँ कैसे लागा, चुनरी में दाग ... आ आ~ धीम त न न न दिर दिर तानुम ता न देरे न धीम त न न न दिर दिर तान, धीम त देरे न ... सप्त सुरन तीन ग्राम बंसी बाजी दिर दिर तानी, ता नी नी द, नी द प म, प म म ग म ध ग म म ग रे स ध ध केटे ध ध ध केटे ध ध केट ध केट धरत पाग पड़त नयी परण झाँझर झनके झन नन झन नन दिर दिर त तूम त द नी, त न न न त न न न धीम त न न न न दिर दिर ताम

2. ऐ मेरे प्यारे वतन

ऐ मेरे प्यारे वतन ऐ मेरे बिछड़े चमन तुझपे दिल क़ुरबान तू ही मेरी आरज़ू तू ही मेरी आबरू तू ही मेरी जान ऐ मेरे प्यारे वतन ऐ मेरे बिछड़े चमन तुझपे दिल क़ुरबान तेरे दामन से जो आए उन हवाओं को सलाम तेरे दामन से जो आए उन हवाओं को सलाम चूम लूँ मैं उस ज़ुबाँ को जिसपे आए तेरा नाम सबसे प्यारी सुबह तेरी सबसे रंगीं तेरी शाम तुझपे दिल क़ुरबान तू ही मेरी आरज़ू तू ही मेरी आबरू तू ही मेरी जान माँ का दिल बन के कभी सीने से लग जाता है तू माँ का दिल बन के कभी सीने से लग जाता है तू और कभी नन्हीं सी बेटी बन के याद आता है तू जितना याद आता है मुझको उतना तड़पाता है तू तुझपे दिल क़ुरबान तू ही मेरी आरज़ू तू ही मेरी आबरू तू ही मेरी जान छोड़ कर…

3. पूछो ना कैसे मैने रैन बिताई

पूछो ना कैसे मैने रैन बिताई इक पल जैसे, इक युग बीता - २ युग बीते मोहे नींद ना आयी पूछो ना कैसे ... (ना कहीं चँदा, ना कहीं तारे ज्योत के प्यासे मेरे, नैन बिचारे ) - २ भोर भी आस की किरन ना लायी पूछो ना कैसे ... इक जले दीपक इक मन मेरा, मेरा, मन, मेरा, मेरा ... इक जले दीपक इक मन मेरा फिर भी ना जाये मेरे घर का अंधेरा तड़पत तरसत उमर गंवायी पूछो ना कैसे ...

4. एक चतुर नार कर के सिंगार

एक चतुर नार कर के सिंगार मेरे मन के द्वार ये घुसत जात हम मरत जात, अरे हे हे हे यक चतुर नार कर के सिंगार... प रे स, स स स नि ध स स रे स ध ध प प ध स रे स स रे ग ध प यक चतुर नर कर के सिंगा... र कि: ummm धम मह: अय्यो ! कि: अरे धम, ओ धम, ओ धम धम धम रुक umm ब्रु - २ ओ अ आ इ ई उ ऊ ए ऐ ओ औ अं अ: (vowels) उम नाम नाम नाम नाम नाम नाम नाम नाम लम लम लम लम ल उम बल बल बल बल रे, बल बल बल बल रे, बल बल बल बल रे ओम एक चतुर नार बड़ी होशियार - २ अपने ही जाल में फसत जात हम हसत जात अरे हो हो हो हो हो ! एक चतुर नार बड़ी होशियर सु: तू क्यों... मह: छी रे करे लाख लाख दुनिया चतुराई छुट्टी कर दूंगा मैं उसकी अबके जो आवाज़ लगाई छुट्टी कर दूंगा, आ आ आ... ता जुम, तक जुम, तक नुम, यक जुम तक तन्किदिअ... कि: पढ़ के बोतन चीर बि चक्कर - २ (?) हर बुद खुदि-बुदि खुद कर - २ छिटके तो रेरे मोन माखन - २ सब चले गये, सब चले गये चिदमुध चितिन्ग चितुबुद चितुबुद गाय, चितुबुद गाय, चितुबुद हाय हाय हाय जा रे, जा रे कारे कागा का का का क्यों शोर मचाये उस नारी का दास ना बन जो राह चलत को राह बुलाए काला रे जा रे जा रे अरे नाले में जाके तू मुँह धोके आ ख़ाला रे ग रे ग रे मह: ये गड़बड़ जी कि: ओ गा रे गा रे मह: ये सुर बदला कि: ओ गा रे गा रे मह: ये हमको मटका बोला कि : ओ गा रे गा रे मह: ये सुर किधर है जी, ये सुर...; ये..., एन्नाया इधु (Tamil) येक चतुर नार... अम छोड़ेगा नहीं जी येक चतुर नार... अम पकड़के रखेगा जी ये घुसत जात हम मरत जात अरे आ आ आ तू क्या जाने क्या है नारी जिस तन लागे मोरे नैना उसपे सारी दुनिया वारी मह: नाच ना जाने, आंगन तेढ़ा टेएएढ़ा, टेढ़ा टेढ़ा टेढ़ा टेढ़ा - ४ नाच ना जाने, आंगन टेढ़ा टेढ़ा टेढ़ा टेढ़ा टेढ़ा - ४ उस संग लागे मोरे नैना अबके जो आवाज़ लगाई कि: ओ टेढ़े! मह: ओय कि: ओ केड़े! मह: ओ या कि: अरे सीधे हो जा रे सीधे हो जा रे सीधे हो जा वाह री चंदनिया, वाह रे चकोरे राम बनाई ये कैसी जोड़ी करे नचाया ता ता थैय्या ताल पे नाचे लंगड़ी घोड़ी अरे देखी अरे देखी तेरी चतुराई मह: ये फिर गड़बड़ कि: अरे देखी तेरी चतुराई मह: फिर भटकाया कि: तुझे सुरों की समझ नहीं आई तूने कोरी घास ही खाई अरे घोड़े! मह: ये घोड़ा बोला कि: ओ निगोड़े! मह: ये गाली दिया कि: अरे देखी तेरी चतुराई मह: येक चतुर नार... कि: घोड़े देखी तेरी चतुराई मह: येक चतुर नार... कि: घोड़े देखी तेरी चतुराई मह: येक चतुर नार... कि: एक चतुर नार... कि: एक चतुर नार... मह: अय्यो घोड़े तेरी... कि: अरे घोड़े तेरी... मह: क्या रे ये घोड़ा-चतुर, घोड़ा-चतुर बोला, येक पे रहना या घोड़ा बोलो या चतुर बोलो... गाओ कि: एक चतुर नार बड़ी होशियार अपने ही जाल में फसत जात एक चतुर नार! (Tune becomes faster here) बड़ी होशियारी! ये घुसत जात मह: हम मरत जात, मरत जात (Mahmood gets stuck) ये अटक गया !!! कि: स रे ग म प, हे आ आ..., हे ... ... !!!!

5. तू प्यार का सागर है

तू प्यार का सागर है तू प्यार का सागर है तेरी इक बूँद के प्यासे हम तेरी इक बूँद के प्यासे हम लौटा जो दिया तुमने लौटा जो दिया तुमने चले जाएंगे जहाँ से हम चले जाएंगे जहाँ से हम तू प्यार का सागर है तू प्यार का सागर है तेरी इक बूँद के प्यासे हम तेरी इक बूँद के प्यासे हम तू प्यार का सागर है घायल मन का पागल पंछी उड़ने को बेक़रार उड़ने को बेक़रार पंख हैं कोमल, आँख है धुँधली, जाना है सागर पार जाना है सागर पार अब तू हि इसे समझा अब तू हि इसे समझा राह भूले थे कहा से हम राह भूले थे कहा से हम तू प्यार का सागर है तेरी इक बूँद के प्यासे हम तेरी इक बूँद के प्यासे हम तू प्यार का सागर है इधर झुमके गाए ज़िंदगी, उधर है मौत…

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts