कुमार विश्वास की शायरी | kavishala - कविशाला's image
2 min read

कुमार विश्वास की शायरी | kavishala - कविशाला

KavishalaKavishala June 16, 2020
Share0 Bookmarks 132 Reads1 Likes


कोई दीवाना कहता है कोई पागल समझता है

मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है




उसी की तरह मुझे सारा ज़माना चाहे

वो मिरा होने से ज़्यादा मुझे पाना चाहे




मिरा ख़याल तिरी चुप्पियों को आता है

तिरा ख़याल मिरी हिचकियों को आता है




दिल के तमाम ज़ख़्म तिरी हाँ से भर गए

जितने कठिन थे रास्ते वो सब गुज़र गए




जब से मिला है साथ मुझे आप का हुज़ूर

सब ख़्वाब ज़िंदगी के हमारे सँवर गए




फिर मिरी याद आ रही होगी

फिर वो दीपक बुझा रही होगी




आदमी होना ख़ुदा होने से बेहतर काम है

ख़ुद ही ख़ुद के ख़्वाब की ताबीर बन कर देख ले




जिस्म चादर सा बिछ गया होगा

रूह सिलवट हटा रही होगी




अपने ही आप से इस तरह हुए हैं रुख़्सत

साँस को छोड़ दिया जिस सम्त भी जाना चाहे




चारों तरफ़ बिखर गईं साँसों की ख़ुशबुएँ

राह-ए-वफ़ा में आप जहाँ भी जिधर गए




Dr Kumar Vishwas Kavishala

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts