Couplets By Aalok Shrivastav's image
Share0 Bookmarks 315 Reads0 Likes

ये सोचना ग़लत है कि तुम पर नज़र नहीं

मसरूफ़ हम बहुत हैं मगर बे-ख़बर नहीं



आ ही गए हैं ख़्वाब तो फिर जाएँगे कहाँ

आँखों से आगे उन की कोई रहगुज़र नहीं



यही तो एक तमन्ना है इस मुसाफ़िर की

जो तुम नहीं तो सफ़र में तुम्हारा प्यार चले


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts