पद्म भूषण सम्मानित संस्कृत भाषा के विद्वान सत्यव्रत शास्त्री जी को श्रद्धांजलि अर्पण's image
Article3 min read

पद्म भूषण सम्मानित संस्कृत भाषा के विद्वान सत्यव्रत शास्त्री जी को श्रद्धांजलि अर्पण

Kavishala DailyKavishala Daily November 14, 2021
Share0 Bookmarks 50 Reads1 Likes

पद्म भूषण सम्मानित संस्कृत भाषा के विद्वान एवं महत्वपूर्ण मनीषी रचनाकार सत्यव्रत शास्त्री जी का आज 14 नवंबर को ९१ की उम्र में निधन हो गया। छः दशकों से वह संस्कृत की सेवा में निरंतर कार्य कर रहे थे। 

संस्कृत भाषा में ज्ञानपीठ पुरूस्कार प्राप्त करने वाले वो एक मात्र कवि थे जिन्हे यह पुरूस्कार २००९ में दिया गया था। इसके अतिरिक्त राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर भी उन्हें कई उल्लेखनीय सम्मानों से सम्मानित किया जा चूका है। 

उन्होंने तीन महाकाव्यों की रचना की हैं जिनमे प्रत्येक में लगभग एक हज़ार श्लोक लिखित हैं। वृहत्तमभारतम ,श्री बोधिसत्वचरितम और वैदिक व्यकरण उनकी मुख्य रचनाएं हैं। संस्कृत भाषा में उन्होंने कई अनुवाद कार्य भी किये हैं जिनमे रॉयल थाई से संस्कृत में किया उनका अनुवाद सबसे महत्वपूर्ण रहीं। शास्त्री जी ने दक्षिण-पूर्वी एशिया में रामकथा विषय पर शोध कार्य किया और राम कथा के विभिन्न प्रचलित रूपों और वहां की लोक संस्कृति में रामायण के महत्त्व का विस्तार किया। १९७७ में जब थाईलैंड की हर्रायल हाइनेस महाचक्री को प्रिंसेस सिरिनथोर को संस्कृत में एमए करनी थी। उस समय थाईलैंड की सरकार ने भारत सरकार से आग्रह किया की महारानी को संस्कृत पढ़ने के लिए किसी अनुभवी संस्कृत शिक्षक की व्यवस्था की जाए तब भारत सरकार ने डॉ. सत्यव्रत शास्त्री का नाम चयनित किया और उन्हें इस कार्य के लिए थाईलैंड भेजा। लेखन कार्य के साथ-साथ उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय में सफल अध्यापन कार्य भी किया जहाँ ४० वर्ष के कार्यकाल में उन्होंने विभागाध्यक्ष तथा कलसांकायध्यक्ष का पद संभाला। उन्होंने न केवल देश परन्तु विदेशो में भी संस्कृत का प्रचार प्रसार किया। संस्कृत भाषा के विस्तार के लिए उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन लगा दिया इस महत्त्व और इतिहास पर कई रचनाएं की और सर्वश्रेष्ठ योगदान दिया। आज ९१ वर्ष की उम्र में उनका यूँ चला जाना निश्चित रूप से संस्कृत साहित्य के लिए एक छती है। अपने पीछे उन्होंने एक ऐसा रिक्त स्थान छोड़ा है जिसकी पूर्ति करना शायद असंभव है। कविशाला संस्कृत के इन महान सेवक को श्रद्धांजलि अर्पण करता है। 





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts