एक शाहरुख में पूरा हिन्दुस्तान बसता है's image
Love PoetryPoetry1 min read

एक शाहरुख में पूरा हिन्दुस्तान बसता है

Kavishala DailyKavishala Daily November 2, 2022
Share0 Bookmarks 239 Reads1 Likes

[एक शाहरुख में पूरा हिन्दुस्तान बसता है - अखिल कट्याल]

वो कभी राहुल है कभी राज

कभी चार्ली तो कभी मैक्स

सुरिंदर भी वो हैरी भी वो

देवदास भी और वीर भी

राम मोहन कबीर भी

वो अमर है समर है

रिजवान, रईस, जहांगीर भी

शायद इसलिए कुछ लोगों के हलक में फंसता है

कि एक शाहरुख में पूरा हिन्दुस्तान बसता है।


[वो रिश्ते दिल दिल दिल थे - नीरज घेवाण]

'बंधन है रिश्तों में

काटों की तारें हैं

पत्थर के दरवाजे दीवारें

बेलें फिर भी उगती हैं

और गुच्छे भी खिलते हैं

और चलते हैं अफसानें

किरदार भी मिलते हैं

वो रिश्ते दिल दिल दिल थे।



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts