समाज को आइने की चकाचौंध में रखने वाले दमदार शायर अकबर इलाहाबादी's image
Article5 min read

समाज को आइने की चकाचौंध में रखने वाले दमदार शायर अकबर इलाहाबादी

Kavishala DailyKavishala Daily November 17, 2021
Share0 Bookmarks 621 Reads2 Likes

दुनिया में हूं दुनिया का तलबगार नहीं हूं

बाज़ार से गुज़रा हूं ख़रीदार नहीं हूं

-अकबर इलाहाबादी 


आज एक ऐसे शायर का जन्मदिन है जिसने शायरों की दुनिया में अपने नाम की इस कदर छाप छोड़ी जिसे मिटा पाने वाला आज तक न हुआ। हम बात कर रहे हैं अकबर इलाहाबादी की जिनकी कलम में उत्तरी भारत में रहने-बसने वालों की तमाम मानसिक व नैतिक मूल्यों, उनकी जीविका उनके नजरिये और राजनीति और हुकूमत की गवाही मौज़ूद थी। उनके शेर उनके ग़ज़ल उनकी जिंदगी का आइना थे। हास्य व्यंग सहारे वो राजनीति और हुकूमत की नीतियों पर वार किया करते थे

कौम के ग़म में डिनर खाते हैं हुक्काम के साथ

रंज लीडर को बहुत है मगर आराम के साथ

-अकबर इलाहाबादी 


आज के वक़्त में जहाँ नारी सशक्तिकरण की बात की जाती है महिलाओं की आज़ादी और परदे, घूंघट, बुरके में बंद करने जैसी तरकीबों को जड़ से खत्म करने की बात की जाती है इसकी शुरुआत ग़ज़लों शायरों से अकबर साहब उसी दौर में कर रहे थे जिसपर उन्होंने एक गजल कुछ यूँ लिखा :


बेपर्दा नज़र आईं जो कल चंद बीवियां

अकबर ज़मीं में हैरते क़ौमी से गड़ गया

पूछा जो उनसे आपका परदा वो क्या हुआ

कहने लगीं कि अक्ल पे मर्दों की पड़ गया

-अकबर इलाहाबादी 


हंगामा है क्यों बरपा इलाहाबादी की सबसे मशहूर लिखी गई गजल रही जिससे गुलाम अली ने गाया था वहीं उनकी सबसे प्रसिद्ध कव्वाली तुम एक गोरख धंधा हो को नुसरत फतेह अली खान ने अपनी आवाज दी थी।

अकबर साहब का जन्म 16 नवंबर 1846 में उत्तरप्रदेश के अल्लाहाबाद में हुआ था । इनका पूरा नाम सैयद अकबर हुसैन था । इनके पिता का नाम मौलवी तफ़ज़्ज़ुल हुसैन था । जो कि पर्सिया से एक आर्मी थे । वो बाद में हिंदुस्तान आ कर बस गए। अकबर ने अपनी प्राथमिक शिक्षा अपने पिता द्वरा घर पे ही ग्रहन की। उन्होंने महज़ १५ साल की उम्र में खुद से दो या तीन साल वरिष्ठ लड़की से शादी की थी और जल्द ही दुरसा विवाह भी कर लिया।अकबर ने वकालत की अध्ययन करने के बाद बतौर सरकारी कर्मचारी कार्यरत हुए


शेख जी निकले न घर से और ये फरमा दिया

आप बीए पास हैं तो बंदा बीवी पास है

-अकबर इलाहाबादी 


अकबर साहब कितने चिंतन वाले व्यक्ति थे इसका अनुमान इसी बात से लगाया जा सकता है कि जब एक बार वह बीमार पड़ गये। उनकी आँखों की रोशनी जाती रही। जिसके इलाज़ के लिए एक अँग्रेज़ डॉक्टर मैनार्ड को बुलाया गया जिसने आँखों का ऑपरेशन किया और उस मन्दी के दौर में भी 200 रुपए फीस ले गए। जब अकबर साहब के बेटे ने पूछा, "अब्बाजान, अब तबियत कैसी है?"अकबर साहब ने कहा, "रोशनी आए तो हम देखें अपना हिसाब। वह तो दो सौ ले गए आँखों पे पट्टी बाँध कर।" वो शायर थे, शोर नहीं मचाते थे। ख़वास और अवाम दोनों उनको अपना शायर कहते थे। अकबर एक शानदार, तर्कशील, मिलनसार आदमी थे। चाहे गजल, नजम, रुबाई या क़ित हो इन सबको लिखने का उनका अपना अंदाज़ और अपना ढंग था।


तो चलिए पढ़ते हैं उनके लिखे कुछ शानदार शेर जो :

हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम 

वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता 

-अकबर इलाहाबादी 


पैदा हुआ वकील तो शैतान ने कहा 

लो आज हम भी साहिब-ए-औलाद हो गए 

-अकबर इलाहाबादी 


अकबर दबे नहीं किसी सुल्ताँ की फ़ौज से 

लेकिन शहीद हो गए बीवी की नौज से 

-अकबर इलाहाबादी 


इश्क़ नाज़ुक-मिज़ाज है बेहद

अक़्ल का बोझ उठा नहीं सकता

-अकबर इलाहाबादी 


तिरी ज़ुल्फ़ों में दिल उलझा हुआ है

बला के पेच में आया हुआ है

-अकबर इलाहाबादी 


मौत आई इश्क़ में तो हमें नींद आ गई

निकली बदन से जान तो काँटा निकल गया

-अकबर इलाहाबादी 


मज़हबी बहस मैंने की ही नहीं

फ़ालतू अक़्ल मुझ में थी ही नहीं

-अकबर इलाहाबादी 


आह जो दिल से निकाली जाएगी

क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी

-अकबर इलाहाबादी 


बस जान गया मैं तिरी पहचान यही है

तू दिल में तो आता है समझ में नहीं आता

-अकबर इलाहाबादी 





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts