पक्षपातों का ज़माना's image
MotivationalPoetry1 min read

पक्षपातों का ज़माना

kavi_divyansh_ divyakavi_divyansh_ divya September 26, 2021
Share0 Bookmarks 129 Reads1 Likes

योग्यता है ठोकरें खाती कहाँ कोई ठिकाना?

दुष्टता ही सब जगह बैठी बनाकर के बहाना !

अर्थ की अर्थी उठा दी व्यर्थ चिंतन व्यर्थ वाणी,

रो रहा अनुपात अब है पक्षपातों का ज़माना !!

~ दिव्य

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts