चश्म-ए-तर क्लब निकला आज मौसम-ए-गुल सुहाने में
तजकीरा महबूब का भी तो बैठा रहा इस दिल दीवाने में

जफर ये बर्ग-ए-खिजां काबिल न है अब तकल्लुफ के तुम्हारे
क्यों ढक दिया इसने वो मंजर सारा जो बनाया था हमने इक जमाने में's image
Poetry1 min read

चश्म-ए-तर क्लब निकला आज मौसम-ए-गुल सुहाने में तजकीरा महबूब का भी तो बैठा रहा इस दिल दीवाने में जफर ये बर्ग-ए-खिजां काबिल न है अब तकल्लुफ के तुम्हारे क्यों ढक दिया इसने वो मंजर सारा जो बनाया था हमने इक जमाने में

kavayaAnjalikavayaAnjali August 14, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
  चश्म-ए-तर क्लब निकला आज मौसम-ए-गुल सुहाने में
तजकीरा महबूब का भी तो बैठा रहा इस दिल दीवाने में

जफर ये बर्ग-ए-खिजां काबिल न है अब तकल्लुफ के तुम्हारे
क्यों ढक दिया इसने वो मंजर सारा जो बनाया था हमने इक जमाने में

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts