याद-ए-हक's image
Share0 Bookmarks 84 Reads0 Likes
उल्फतें इश्क की कोई समझे तो खुदगर्जी है, हम तो अपना दिल मरहूम रखा करते है।

✍️ चिदानंद कौमुदी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts