निहारती अँखियाँ....'s image
Poetry1 min read

निहारती अँखियाँ....

CHIDANAND KAUMUDICHIDANAND KAUMUDI January 13, 2023
Share1 Bookmarks 0 Reads1 Likes
आँखे बेपर्दा न कीजिये बाजारों में, 
दीदारे चाँद उतर आता है गलियारों में ।।
प्रारब्ध मुकम्मल हो उन्हें हर दुआओं में, 
जिन्हें देखा है खिलते कभी गुलज़ारो में।।


✍️ चिदानंद कौमुदी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts