आँखों के परिदें's image
MotivationalPoetry1 min read

आँखों के परिदें

Karan SinghKaran Singh November 12, 2021
Share0 Bookmarks 13 Reads1 Likes
                                      

           इन आँखों के परिंदों को आसमान से मिलने दो,
           इस दिल को दिल खोल,इस जहान से मिलने दो।
           कब तक यूँ ही करवटों में बितओगे जिंदगी,
          उठो,इन कदमों को मंजिलों के सफर से मिलने दो।
                           Karan
                                             
@KaranRajput0911/@Kavishala_Hindi

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts