मेरी माँ ही ऐसी हैं!!'s image
Poetry2 min read

मेरी माँ ही ऐसी हैं!!

kanishkagarg0609kanishkagarg0609 September 30, 2022
Share0 Bookmarks 486 Reads6 Likes
                            माँ - यह शब्द सुन कर 
                          होती हैं दिल में खन खन ,
                          इन शब्दों में बसी हैं जन्नत 
                     मांगते हैं सब लोग इसी की मन्नत ,
                           क्योंकि भाव ही ऐसे हैं 
                             मेरी माँ ही ऐसी हैं । 

                   जिसने रखा नौ माह अपनी कोख में
                      जिसने झेले कष्ट सिर्फ मेरे लिए ,
                        नहीं मांगती हैं कुछ बदले में 
                   सिवाए लंबी उम्र और दुआएं मेरे लिए ,
                             क्योंकि भाव ही ऐसे हैं 
                               मेरी माँ ही ऐसी हैं। 

                              जब चोट लगे तो 
                        मुख से सिर्फ निकले माँ , 
                            जब उल्लास हो तो 
                     याद आती हैं सबसे पहले माँ , 
                          क्योंकि भाव ही ऐसे हैं
                             मेरी माँ ही ऐसी हैं । 

                   जो खाती हैं खाना सबसे अंत में 
                  ताकि मेरा पेट भर सके आरंभ में ,
                     एक रोटी मांगो तो दो देती हैं 
                  खाली पेट रहो तो क्रोध करती हैं ,
                        क्योंकि भाव ही ऐसे हैं
                           मेरी माँ ही ऐसी हैं । 

                पहले जिसके क्रोध से डर लगता था
            अब उसके क्रोध में भी स्नेह नजर आता हैं , 
              पहले जिसका डॉटना भी बुरा लगता था 
               अब उसकी डॉट में भी आनंद आता हैं , 
                         क्योंकि भाव ही ऐसे हैं
                            मेरी माँ ही ऐसी हैं ।

                   जो मुझे सबसे असीम जानती हैं 
             मेरी कोताही मेरी शक्ति सब पहचानती हैं ,
                    वो रहती है मेरी सहचरी बन कर 
                 कम नहीं हैं मेरे लिए ईश्वर से बढ़कर , 
                          क्योंकि भाव ही ऐसे हैं 
                            मेरी माँ ही ऐसी हैं । 

               लगा देती हैं दाव पर अपनी सारी खुशियां 
                      सिर्फ मुझे खुश देखने के लिए , 
               भस्म कर सकती हैं स्वयं का आशियाना 
                          सिर्फ मेरे भले के लिए , 
                         क्योंकि भाव ही ऐसे हैं 
                           मेरी माँ ही ऐसी हैं । 

                         शब्द कम पड़ जाएंगे 
                    ऐसी हस्ती को बयां करने में , 
                       सारी उम्र निकल जाएगी 
                  उस मां का कर्ज अदा करने में , 
                       क्योंकि भाव ही ऐसे हैं 
                         मेरी माँ ही ऐसी हैं ।  

      
                                    ~ कनिष्का गर्ग (कक्षा - दसवीं)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts