उद्धरण's image
Share0 Bookmarks 87 Reads1 Likes
यदि प्रेम में प्रतिबद्धता है तो वह उस आत्म के प्रति है जिसे हम स्वयं में देखने की लालसा में अधीर होते हैं।
-© कामिनी मोहन पाण्डेय 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts