#उद्धरण's image
Share0 Bookmarks 39 Reads1 Likes
प्रेम का सर्व-समाहित बोध
मनुष्य के संवेदना की गहराई है।

-© कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts