तन, मन व वचन से (उद्धरण)- © कामिनी मोहन।'s image
Article1 min read

तन, मन व वचन से (उद्धरण)- © कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan June 22, 2022
Share0 Bookmarks 36 Reads1 Likes
तन, मन व वचन से सत्य का
अमोघ विहान ही कविता को
गुरु तत्व प्रदान करता है।

- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts