सत्य परिणति मौन आस्थाएँ -© कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

सत्य परिणति मौन आस्थाएँ -© कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan June 21, 2022
Share0 Bookmarks 44 Reads1 Likes

सत्य परिणति मौन आस्थाएँ,

हमेशा तेज़ कहाँ धधकती चिताएँ।

सत्य ढूँढते जीवन जाए,

मृत्यु सत्य है देख न पाए।

-© कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts