शक्ति है फिर भी
- © कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

शक्ति है फिर भी - © कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan July 21, 2022
Share0 Bookmarks 151 Reads1 Likes
अपूर्ण से पूर्ण की गाथा सृजन में,
कितने ही अशक्त और आसक्त हुए।
सामने देख विकराल कंटक व्यूह,
कुछ ठिठके, कुछ आगे बढ़ गए।

बस मारा-मारा घूमता-फिरता रहा,
जीवन भर एक सिमटी परिधि के प्यार में।
अनंत की थी दूरी राह भागता ही रहा,
न मिल सका ओर-छोर केंद्र से परिधि के संसार में।

शक्ति है फिर भी असहाय समझते ही रहे,
दिल की दहलीज़ पर पाँव ठिठके ही रहे।
सीमा में बँधे रहकर खड़ी रही जो भीत,
हरण कर लिया ख़ुद बस नींव देखते ही रहे।

जान लो, नेक-अनेक मोड़ पर चलते हुए,
गिरने से बचने को हर कोई ढूँढ़ता है टेक।
विकल तन-मन की टीस दूर करने को,
कोई-कोई परिधि के बंधन देता है फेंक
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts