साधारण वार्तालाप  की...- © कामिनी मोहन पाण्डेय।'s image
Poetry1 min read

साधारण वार्तालाप की...- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

Kamini MohanKamini Mohan March 23, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
साधारण वार्तालाप  की अपनी  गति है,
भावावेग  कथन  की अपनी  स्थिति  है।
संवेदना का वेग चाहे हो कितना भी तेज़
कविता   की   यति  अबाधित  गति  है।
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts