( क़ितआ ) - धमकियाँ दर्द की -Kamini  Mohan's image
Poetry1 min read

( क़ितआ ) - धमकियाँ दर्द की -Kamini Mohan

Kamini MohanKamini Mohan May 5, 2022
Share0 Bookmarks 129 Reads1 Likes
( क़ितआ ) - धमकियाँ दर्द की

धमकियाँ   दर्द  की  ख़ुशियों  पर  है  भारी
ऐसा  डर जैसे  रात  स्याही बरसीं  हो भारी
रूह है आज़ाद वक़्त भले तन-बदन लूट ले
क्यूँ  डरे  चलो  आज  तो  जी भर के जी ले।
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts