प्रेम के संप्रेषण में - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

प्रेम के संप्रेषण में - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan May 19, 2022
Share0 Bookmarks 34 Reads1 Likes
" उद्धरण "

प्रेम के संप्रेषण में रूह की साझेदारी हो तो प्रेम प्रत्येक रूह तक पहुँचती है।— चाहे रूह को धारण करने वाला जीव कोई भी क्यों न हो।

- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts