कुछ बिताया कुछ निभाया - © कामिनी मोहन पाण्डेय।'s image
Poetry1 min read

कुछ बिताया कुछ निभाया - © कामिनी मोहन पाण्डेय।

Kamini MohanKamini Mohan April 2, 2022
Share0 Bookmarks 29 Reads1 Likes
कुछ      बिताया     कुछ     निभाया,
अपरिचित जीवन-पथ पर चलते रहे।
मालूम नहीं कब-कहाँ परिचित जिए,
बस यूँ ही  दिन ढले  तक  चलते  रहे।
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts