कस्तुरी जैसे मृदगंध - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

कस्तुरी जैसे मृदगंध - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan May 20, 2022
Share0 Bookmarks 67 Reads1 Likes
कस्तुरी जैसे मृदगंध
बहती हवा आसपास है
साँस संग आती जाती
बाहर-भीतर
पर मृग मन
जंगल-जंगल ढूँढ़ता
देखता आकाश है।

मृगमरीचिका-सी तृष्णा
गर्म रेत-सी उड़ती
धुंधलका आँखों पर
पलकों तले देखता विकास है।

पानी को तलाश
साफ़ भूख-प्यास देखने की
आख़िर तक उठाव-गिराव में
समतल से भटकाव है।
सदियों से नदी की छाती पर
लग रहा घाव है।

एक पहर से दूसरे पहर
बदलाव पर जाता ठहर
ठंडी और गरम हवा का
हल्के और गाढ़े ढंग का
रंग और बे-रंग दर्द का
अपना बहाव है।

अपने को समय को सौंपकर
मरुस्थल के ग़ोताख़ोर की
ख़्वाहिश है तैरने की
ख़ुद-ब-ख़ुद समंदर को परोसकर
समय के पार जाना प्राण का चाव है।
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts