" जब बारूदी धुएँ की गंध... "
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।'s image
Poetry3 min read

" जब बारूदी धुएँ की गंध... " - © कामिनी मोहन पाण्डेय।

Kamini MohanKamini Mohan March 22, 2022
Share0 Bookmarks 22 Reads1 Likes

" जब बारूदी धुएँ की गंध... "
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

जब बारूदी धुएँ की गंध रक्त में घुल जाता है
तब कुछ भी नज़र नहीं आता है
जब युद्ध में तप्त जिस्म कुम्हलाता है
तब दया, करूणा और प्रेम का आँसू
दूर कहीं चुपचाप झड़ जाता हैं।

धुएँ की लहरों पर
आग लिए तैरता है रक्तिम धुँआ
भविष्य की ओर अनुगत होता है
गोला-बारूद की चोट से
टूटे पुल और बिल्डिंगों की कराह देखता है।

ध्वस्त हो जाती हैं कविता
विस्तारवादी सोच में
छल सभ्य होने का
छुपा रहता छद्म मानवीयता की ओट में।

शोषण-मुक्त रखने का दावा जो तुम्हारा है
दुःख-दर्द का पोषण करने का उपक्रम सारा है
जीवन बस ढकोसला है
है आग बुझाने का आभासी पानी
कृत्रिम हो गई पवित्र पुस्तकों की वाणी।

वेदना के क्षण में उठती कराह है
काँपते बंकर की छत से टकराती आह है।

तेज़ सायरन की आवाज़ के बीच
तूफ़ानी धड़ाम, धड़ाम, धम्म गूँजती हैं,
काँप जाती हैं
बैठतीं है धड़कन
उखड़ती आती-जाती श्वास है।

बरख़ास्त होते अपने घर से
अत्याचार को सहते
बेसुध भागते लड़खड़ाते पाँव है
चीख़ती-पुकारती भीड़ का नहीं कोई ठांव है।

ध्वस्त मलबों पर क़ाएम राज-सत्ता
देश-दुनिया में सब बजाते अपनी-अपनी कूटनीति का डंका।

बारूद का हथौड़ा तुम्हारे हाथ है
सिर तोड़ता, जलाकर राख करता
तेज़ धधकती आग को रखता साथ है।

मिसाइलों से बारूद की बौछार है
तोप, रॉयफल लिए चलते सैनिकों की हुंकार है
जान बचाकर भागते निहत्थे, निरीह नागरिकों की कोई नहीं सुनता पुकार है।

लक्ष्य तुम्हारा
मौत के घाट उतारना मानचित्र है
पर ज़ेहन के बदलते नक़्शे पर दर्ज़ लाल रंगी धूसरित चित्र है।

स्याह चेहरे पर दर्ज़ है
युद्ध की पीड़ा का दाग देख लो
कलंक होता है विजेता के माथे पर
दर्द लहराते परचम से पूछ लो।

वाॅर है कविता के शत्रु पर
या कि कविता के चरित्र पर
दोनों ही परिस्थितियों में है कलंक
प्रेम जगत में रहने वाले
हे मनुष्य!
तुम्हारे विशिष्ट प्रेम विचित्र पर।
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

¤¤¤¤¤


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts