बात की बात से - © कामिनी मोहन पाण्डेय।'s image
Poetry1 min read

बात की बात से - © कामिनी मोहन पाण्डेय।

Kamini MohanKamini Mohan April 19, 2022
Share1 Bookmarks 89 Reads1 Likes
बात की बात से,
कुछ   बात   हो।
एक नई राह की,
नई-नई बात हो। 

अपनेपन   की    बात     हो,
प्रेम   की   मन  में  घात  हो।
मनुज-मनुज   की   बात  हो,
केवल एक सत्य की जात हो। 

बुद्धि   जाग्रत   न   हो  तो,
झूठ   की    ही   बात   हो।
अभय मिला जो जीवन का,
उसकी   अंधेरी    रात   हो। 

- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts