आँखें ही आँखों का ध्यान भंग करती हैं -कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

आँखें ही आँखों का ध्यान भंग करती हैं -कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan May 15, 2022
Share0 Bookmarks 61 Reads1 Likes
आँखें  ही आँखों का ध्यान भंग करती हैं 
ये पलकें बंद रहने पर भी देखा करती हैं।
-© कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts