201.मुँह-अँधेरे जाग-जागकर - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

201.मुँह-अँधेरे जाग-जागकर - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan December 16, 2022
Share0 Bookmarks 132 Reads1 Likes
गाता है चुपचाप सुमधुर गीत
प्रेमी अपनी ही धड़कन का।
गुनगुनाता है प्रेरित प्रेम
नव उपवन की सुगंध का।

ज्यों-ज्यों परछाईं आगे बढती है
अपना चेहरा छुपा-छुपाकर।
त्यों-त्यों गतिमान उजाला आगे बढ़ता है
अपनी छवि दिखा-दिखाकर।

प्रेम बिना अंधेरे
बिना उजाले के रच-बसकर।
बुनियाद
अंतस् में है स्थिर धंस-धंसकर।

कितना दुखी है
कितना सुखी है
सोचती है सोच-सोचकर।
मिज़ाज बदला वो एक कमरे से
दूसरे कमरे में चली गईं
विस्मित-सी विरक्ति गढ़-गढ़कर।

आँखों में बूँद की कमी है
ऊँघती हैं ऊब-ऊबकर
रिक्त स्थानों में रखा मसौदा देखती हैं
मुँह-अँधेरे जाग-जागकर।
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts