199.प्रेम ही सारी गतिविधियों को - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

199.प्रेम ही सारी गतिविधियों को - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan December 12, 2022
Share0 Bookmarks 130 Reads1 Likes
प्रेम ही सारी गतिविधियों को
ख़ुशी और शांति के साथ
संतृप्त करता है।

- © कामिनी मोहन। 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts