185. दुनिया में प्रेम : उद्धरण - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

185. दुनिया में प्रेम : उद्धरण - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan October 15, 2022
Share0 Bookmarks 167 Reads1 Likes
दुनिया में प्रेम सबसे ख़ूबसूरत है। यह मनुष्य को मनुष्य से बग़ैर किसी अर्थ के जोड़ता है।
-© कामिनी मोहन पाण्डेय 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts