183.अपने माज़ी को जो भूल गए- कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

183.अपने माज़ी को जो भूल गए- कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan October 13, 2022
Share0 Bookmarks 115 Reads1 Likes
अपने माज़ी को जो भूल गए,
गागर पूरा खाली कर गए।

लम्हा छलका तो वापस न हुआ
गागर टूटा तो फिर अपना न हुआ।

-© कामिनी मोहन पाण्डेय
- शब्दार्थ:
माज़ी : अतीत, बीता हुआ

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts