#Self_Motivational's image
Share0 Bookmarks 17 Reads1 Likes



दिल मे दुआएँ,हाथों में गुलाब,आँखों मे ख़्वाब रखता हूँ।

लबों पे मुस्कान,क़िरदारों से पहचान रखता हूँ।।


अजीबो-ग़रीबों सी ख्वाइशें रखता हूँ।

बैठकर जमीं पर,चाँद के ख़्वाब देखता हूँ।।


चंद जुगनू क्या ख़ाक डराएंगे फ़ितरत को मेरी।

में अंधेरों में भी अपनी चमक बरकरार रखता हूँ।।


-कैलाश हीराणी





No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts