आओ आज एक दीया जलाते हैं।'s image
Poetry1 min read

आओ आज एक दीया जलाते हैं।

JR SinghJR Singh February 11, 2022
Share0 Bookmarks 39 Reads0 Likes

आओ आज एक दीया जलाते हैं।

हर एक जानी अनजानी लड़की में

अपनी ही बहन की छवि ढूंढते हैं।

फिर समाज में न कोई दुशासन होगा

न कोई निर्भया, दामिनी होगी

सभी राकेश शर्मा और कल्पना चावला होंगे

आकाश की असीमताओं में गाएंगे

चंद्रमा हमारे कदमों में होगा।

कोई बहन स्कूल या कॉलेज नहीं छोड़ेगी

अपने करियर से मुंह नहीं मोड़ेगी।

लाखों सुनीता अनगिनत गार्गी हमें

मिलते रहेंगे, आगे बढते रहेंगे

कोई विदेशी बहन भारत आने से

नहीं डरेंगी, नहीं झुकेंगी

देश शर्मसार होने से बच जाएगा

मानवता का सही अर्थ दे जाएगा।

मिलकर निश्चय करते हैं , मुस्कुराते हैं

आओ आज एक दीया जलाते हैं।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts