सूरज की सीख's image
Share0 Bookmarks 96 Reads0 Likes
थकता नही वह आकर रोज 
लाता वह नई उम्मीद रोज
सिखाता हमें कुछ नया रोज
देता वह हमें हिम्मत रोज ।

सिखाता हमें वह निरंतर चलना
करम करतें हुए पथ पर बढ़ना 
आता रोज कुछ सीखो मुझसे
कहता हूँ रोज बार -बार तुझसे ।

हारना मत हिम्मत मेरी तरह 
बदलना मत गिरगिट की तरह
वक्त बदलने पर बदलता नही
आसानी से मैं पिघलता नही ।

आता हूँ तुझे सिखाने रोज
भाग जाता जानें तू कहाँ रोज
जाग और बढ़ा कदम अपने
चल अब पूरे होंगे तेरे सपने ।।


© जीतेन्द्र मीना ' गुरदह '
करौली ( राजस्थान )

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts