मुझ पर फरमान's image
Share0 Bookmarks 157 Reads0 Likes
लालसा नही मुझे सत्ता की 
ना लालच भोग विलास का 
लहराती रही फसल हरी भरी
पालन होता रहे मेरे देश का ,

ये देश नही मेरा परिवार है 
इसको पालना मेरा धर्म है 
सोने ना पाये कोई भूखा 
ये मेरा अन्तिम कर्म है ,

गर्मी हो या हो शीतकाल
मेहनत से न होता मै बेहाल
खुशियाँ लाएगा नया सवेरा
आस में रोज रोकता न चाल ,

मेहनत से बेटों को पढ़ाया है
सच का पाठ उनकों सिखाया है
नही चाहिये सरकार की नौकरी
देश को पालना मैने सिखाया है ,

बूँद बूँद को तरसता हैं किसान
बूँद मिले तो मानों मिले वरदान
बूँदों पर भी देखों तुम राजनीति 
बूँद पर भी है सरकारी फरमान ,

महान है वो इन्सान जो है किसान
मिट्टी के कण मै हैं जिसकी जान
लिखा नही कभी कुछ खुद के लिये 
आज लिखा है तो बस किसान के लिये ।।


लेखक / कवि : ©जीतेन्द्र मीना ' गुरदह '

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts