ईमानदारी पर तंज's image
Learn PoetryPoetry1 min read

ईमानदारी पर तंज

Jitendra MeenaJitendra Meena January 14, 2022
Share0 Bookmarks 46 Reads0 Likes
बेईमान कहने से 
तो हर कोई चिढ़ता है 
गुस्सैल बनता है 

अब ऐसा समय है 
की लोग ईमानदारी 
को भी बेईमानी 
मानने लगे है 

ईमानदार कहने से 
आग बबूला हो जाते है
आपा खोने लगते है ।

© जीतेन्द्र गुरदह

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts