जिन्दगी's image
Share0 Bookmarks 45 Reads1 Likes
महीने की तनख्वाह हो गया हुं ,
हर रोज़ खर्च हो रहा हुं 
वक्त पिघलता जा रहा है ,
और मैं बर्फ हो रहा हुं ।।

          - आdarsh ❤️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts