सिद्धू मूसेवाले को अंतिम विदाई ।'s image
International Poetry DayStory2 min read

सिद्धू मूसेवाले को अंतिम विदाई ।

JAGJIT SINGHJAGJIT SINGH June 8, 2022
Share0 Bookmarks 5 Reads0 Likes

आज सिद्धू मूसेवाले की अंतिम अरदास कर दी जायेगी ।

एक और आखरी विदाई नम आंखों से सिद्धू मूसेवाले को दी जायेगी ।


अंतिम अरदास खत्म होने के बाद सब लोग अपने अपने घर चले जाएंगे ।

घर में सिद्धू मूसवाले के अकेले बूढ़े मां बाप रह जाएंगे ।


सब लोग सिद्धू मूसवाले की आज कर रहे होंगे बातें ।

 अब सिद्धू मूसेवाले के मां बाप के पता नहीं कैसे दिन कटेंगे कैसे कटेंगी रातें ।


अगले महीने होने वाली थी सिद्धू मूसेवाले की शादी ।

अभी तो ज़िन्दगी सिद्धू मूसेवाले ने जीई भी नहीं थी अपनी आधी ।


कहता था सिद्धू मूसेवाला मौत से मैं क्यों डरूं ।

मेरा दिल जो कहता वो काम हमेशा मैं करूं ।


जब जिसकी लिखी उस दिन उस इंसान की मौत आ जायेगी ।

जहां मर्ज़ी इंसान छुप जाये मौत इंसान को अपने साथ ले ही जायेगी ।

इंसान के चले जाने के बाद ये दुनियां तो बस तरह तरह की बातें बनायेगी ।


अपनी ही ज़मीन पर सिद्धू मूसेवाले की आखरी निशानी बना दी गई ।

एक मां की कोख क्यों उजाड़ दी गई ।

सिद्धू मूसेवाले के रूप में मां बाप के बुढ़ापे की आखरी लाठी हमेशा हमेशा के लिये क्यों तोड़ दी गई ।


गाने तो सिद्धू मूसेवाले के ही सुने जाएंगे ।

क्योंकि सिद्धू मूसेवाले जैसे गायक फिर कभी नहीं इस ज़माने में आएंगे ।

प्रभु,नीलू दीदी और मेरी मां मिलकर अपने बेटे सनी से अभी पता नही क्या क्या लिखवाएंगे ✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts