नशा इस देश के लिये सबसे बड़ा रोग ।'s image
International Poetry DayStory3 min read

नशा इस देश के लिये सबसे बड़ा रोग ।

JAGJIT SINGHJAGJIT SINGH March 24, 2022
Share1 Bookmarks 43 Reads1 Likes

केस पे केस दर्ज़ हो रहे।

जिन मां बाप के जवान बच्चे इस चिट्ठे के नशे में चले गये वो तो आज भी इंसाफ़ की मांग कर रहे।


बड़े बड़े नेता और बड़े बड़े पुलिस अधिकारी जब खुद नशा बिकवाते।

नशे को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने के लिये सरकारी गाड़ियों का इस्तेमाल तक करवाते।

तो नौजवान नशे की दलदल में कैसे ना फंस जाते।


जगदीप भोला को पंजाब पुलिस ने जब नशा बेचने के आरोप में पकड़ा।

पिछले कई सालों से पंजाब के नौजवानों को नशे ने पूरी तरह से हुआ है जकड़ा।


अफ़ीम और चुरा पोस्त के नशे की कहानी हुई पुरानी ।

नशे ने बर्बाद करदी पंजाब की काफ़ी हद तक जवानी।


साफ़ कपड़े पहनने वालों से कोई सवाल ना करता।

जगदीप भोला क्यों शरेआम बिक्रम सिंह मजीठिया का नाम लेने से बिल्कुल ना डरता।


किस के इशारों पे आज भी पंजाब में जानलेवा नशा बिक रहा है।

पुलिस के कई अफ़सर भी साथ मिले हुऐ है ये साफ़ साफ़ दिख रहा है।


अगर पुलिस अपनी आई पे आ जाये।

नशा बिकना तो दूर मंदिर,और गुरुद्वारे के बाहर से एक चपल तक चोरी ना हो पाये।


ईमानदार पुलिस वालों का अक्सर कर दिया जाता तबादला।

और अगर फिर भी कोई ईमानदार अफ़सर बात ना माने तो उसे इस देश में मरवा दिया जाता।


नशे का कारोबार दिन बा दिन बढ़ रहा है।

किसी नेता को इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता क्योंकि इनके घर से थोड़ा कोई मर रहा है।


उन मां ओ से पूछो जिनके जवान बेटे के मरने के साथ ही उसकी कोख उजड़ गई।

वो बाप जीते जी मर गया जिसने अपने कंधे पे अपने जवान बेटे की लाश उठाई।

कांपते हाथों से पिता ने अपने बेटे की चिता को आग लगाई।


आज बड़े बड़े घर मां बाप को खाने के लिये दौड़े।

इस नशे ने उन मां बाप को ज़ख्म दिये ऐसे मां बाप को समझ नहीं आई आज तक वो इन्हें कौन सी मरहम लगाएं इनपर या बेटे के जाने के ज़ख्म को खुला छोड़े।


नौजवान आज हद से ज्यादा नशा कर रहे।

लड़के हो या लड़कियां आज तो कई नशे में अपनी जवानी को पूरी तरह से बर्बाद कर रहे।


इसलिए आज कई मां बाप अपने बच्चों को लेकर बड़ी फिक्र कर रहे।

नशे की दलदल में ना चले जाएं हमारे बच्चे इस लिए आज ज्यादातर मां बाप कर्ज़ लेकर उन्हें विदेश भेजने का काम कर रहे।


सच लिखवाने का काम तो प्रभु,नील दीदी और मेरी मां तीनों मिलकर अपने बेटे सनी से रोज़ कर रहे।


लेखक_जगजीत सिंह सनी ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts