मौसम ने करवट बदली's image
International Poetry DayPoetry2 min read

मौसम ने करवट बदली

JAGJIT SINGHJAGJIT SINGH March 17, 2022
Share0 Bookmarks 27 Reads0 Likes

मौसम ने एक दम से करवट बदली ।

कुछ दिन पहले जहां लग रही थी सर्दी अब लगने लगी है पूरी गर्मी ।


धूप में अब बैठा नहीं जाता ।

पंखा चलाये बगैर अब सोया नहीं जाता ।


तापमान एक दम से रोज बढ़ रहा है ।

मौसम हर साल नया ही रंग बदल रहा है ।


पिछले साल नवंबर दिसंबर महीना में इतनी ठंड ना पड़ी।

पहली बार ऐसा हुआ के लोहड़ी के बाद एक दम से ठंड बढ़ी ।


कितने दिनों तक लोगों ने सूरज नहीं देखा ।

मौसम का लोगों ने अलग ही रूप देखा ।


अभी तो मार्च महीना आधा हुआ है ।

लेकिन गर्मी का एहसास लोगों को पूरा हुआ है ।


अप्रैल, मई,जून,जुलाई,अगस्त,सितंबर आते आते क्या हाल होगा ।

अगर बिजली के कट लगे तो लोगों का और भी बुरा हाल होगा ।


हर इंसान को एक पौधा लगाना होगा ।

बढ़ रहा है प्रदूषण अपने वातावर्ण को हमें मिलकर बचाना होगा ।


धूल मिट्टी से लोगों को सांस लेने में तकलीफ़ हो रही ।

टूटी है शहर की कई सड़के लोगों को आज कल हड्डियो में दर्द की शिकायत बहुत हो रही ।

सरकारें और प्रशासन की टीमें कई सालों से कुंभकर्ण की नींद सो रही ।


बिना बताएं आधी आधी रात को बिजली चली जाती ।

बच्चों और लोगों की नींद पूरी ना हो पाती ।

प्रभु,नीलू दीदी और मेरी मां के आशिर्वाद के बिना तो सनी से इतनी भारी कलम लिखने के लिये उठाई नहीं जाती । ✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts