महंगाई (सबसे बड़ा मुदा)'s image
International Poetry DayPoetry3 min read

महंगाई (सबसे बड़ा मुदा)

JAGJIT SINGHJAGJIT SINGH September 25, 2022
Share0 Bookmarks 41 Reads1 Likes

क्या कमाल का देश है हमारा ।

देश की जनता किसी भी नेता से सवाल नहीं करती ये कसूर है देश की जनता का सारा का सारा ।


एक दिन में 100करोड़ के 8चीते मंगवाये जाते ।

कितने गरीब और मासूम लोग आज भी है हमारे देश में जो बिना रोटी खाएं रात को सो जाते ।


चुनावों के वक्त जनता को मीठे मीठे सपने दिखा दिये जाते ।

लेकिन चुनावों के बाद कई नेता अपने वादों से पलट जाते ।


आखिर कब तक हमारे देश में धर्म की गंदी राजनीति होगी ।

जब तक इस देश के पढ़े लिखे युवा राजनीति में नहीं आएंगे ये गंदगी तब तक कभी दूर नहीं होगी ।


हर धर्म को हमारे देश में आपस में लड़वाया जाता ।

आखिर क्यों दंगे करवा के कई मासूमों का खून बहाया जाता ।


ऐसा कमाल का है हमारा देश जहां अपने समय का एक गुंडा मावली भी अपने पैसे और पावर के दम पर इस देश का नेता बन जाता ।

कोई कुछ नहीं कह पाता और कर पाता क्योंकि सबके सामने अपने परिवार का चेहरा आ जाता ।


देश के बच्चों को मुफ़्त शिक्षा नहीं मिल पाती ।

लेकिन जब चुनाव आता है तो कई नेताओं के आदमियों द्वारा शरेआम शराब बांटी जाती ।


लानत है उन लोगों पर भी जिनकी वोट एक बोतल शराब के लिये बिक जाती ।

तभी तो यहां के बच्चों में विदेश जाने की होड़ लग जाती ।


हमें नहीं चाहिए 100करोड़ के चीते ।

कभी कोई नेता सोचेगा के गरीब और मिडिल क्लास वाले लोग रोज़ मर मर के है जीते ।


1100रुपए सिलेंडर का दाम हुआ ।

पेट्रोल 100के पार हुआ ।

देश की जनता का बुरा हाल हुआ ।

पता नहीं किस मुंह से इस देश के कुछ नेता कहते है यही तो असली विकास हुआ ।


कई सड़को का है इतना बुरा हाल ।

क्यों कोई नहीं करता इस देश से नेताओं से सवाल ।


पढ़े लिखे युवाओं से मेरी विनती है जितना जल्दी हो सके राजनीति में आओ ।

चोर उच्के नेताओं से अपने देश को और लुटने से बचाओ ।

प्रभु,‍नीलू दीदी और मां आप अपने बेटे सनी को ऐसे ही रोज़ थोड़ा थोड़ा लिखना सिखाओ✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts